दिल्ली विश्वविद्यालय में जीती NSUI जाने आज का पुरा घटनाक्रम

0
211
views
प्रचार करते छात्र

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में चुनाव हुए और वहां एक बार फिर यूनाइटेड लेफ़्ट का लाल परचम लहरा गया.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने इस हार में भी अपनी जीत देखी. उम्मीद थी कि जेएनयू में मिली हार और जीत तक ना पहुंचने के ज़ख़्मों पर डीयू की चुनावी जीत मरहम लगाएगी.

लेकिन ऐसा हो ना सका. साल 2016 में चार में से तीन सीट पर कब्ज़ा जमाने वाली एबीवीपी दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनावों में दो सीटें ही जीतने में कामयाब रही.

इस चुनाव में सबसे बड़ी ट्रॉफ़ी माना जाने वाला अध्यक्ष पद उसके हाथ से निकल गया.

जेएनयू में उसकी जीत के बीच वाम छात्र संगठन आ गए थे तो यहां हैरतअंगेज़ तरीके से कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई उसके आड़े आ गई.

कांग्रेस की छात्र इकाई नेशनल स्टूडेंटस यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) ने दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव में शानदार वापसी करते हुए अध्यक्ष पद समेत दो अहम पदों पर कब्जा जमाया। डूसू में मजबूत माने जाने वाला छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने सचिव और संयुक्त सचिव की सीटें जीतीं। एनएसयूआई के रॉकी तुसीद ने 1,590 मतों के अंतर से अध्यक्ष पद पर जीत हासिल की जबकि उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के ही कुणाल सहरावत ने एबीवीपी उम्मीदवार को 175 मतों से हराया।

एबीवीपी की महामेधा नागर ने सचिव पद पर एनएसयूआई की मीनाक्षी मीणा को 2,624 मतों के अंतर से हराया, जबकि संयुक्त सचिव पद के लिए एबीवीपी के उम्मीदवार उमा शंकर ने एनएसयूआई के अविनाश यादव को 342 मतों से हराया। डूसू चुनाव के लिए कल कुल 43 फीसदी मतदान हुआ था। गत वर्ष एबीवीपी ने तीन पदों पर जीत दर्ज की थी जबकि एनएसयूआई ने संयुक्त सचिव का पद जीता था। चुनाव के इन नतीजों के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि डीयू के छात्रों को कांग्रेस की विचारधारा का समर्थन करने के लिए धन्यावाद दिया।

दो पदों पर एबीवीपी को करना पड़ा संतोष
एबीवीपी को इस बार के छात्रसंघ चुनाव में चार में से दो सीटों पर ही जीत हासिल हो सकी। सचिव पद पर एबीवीपी के महामेधा नागर को 17156 वोट मिले जबकि एनएसयूआई की मिनाक्षी मीना को 14532 वोट हासिल हुए। इसी तरह सह सचिव के पद के लिए हुए चुनाव में एबीवीपी उमा शंकर को 16691 वोट मिले जबकि एनएसयूआई के अविनाश यादव को 16349 वोट हासिल हुए।

डूसू चुनाव LIVE UPDATE

दोपहर 12.35 बजे : अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के पद पर एनएसयूआई के प्रत्याशियों का जीतना तय

दोपहर 12.30 बजे: 10 राउंड की काउंटिंग पूरी, तीन सीटों पर एनएसयूआई के प्रत्याशी भारी मतों से आगे। अभी 6 राउंड की मतगणना होना बाकी

सुबह 10.00 बजे: NSUI ने रॉकी तुषीद पहले दो राउंड में एबीवीपी के उम्मीदवार रजत चौधरी से आगे। जबकि तीसरे नंबर पर आईसा की पारुल चौहान हैं।

सुबह 09.30 बजे: 125 वोटिंग मशीन में मतगणना का काम शुरू किया गया। शुरुआती 16 राउंड के नतीजों में एनएसयूआई का पलड़ा भारी।

लाइव मतगणना देखने के लिए लगाई गई स्क्रीन
डूसू चुनाव में पारदर्शिता लाने के लिए इस बार कैंपस में एक बड़ी स्क्रीन की व्यवस्था की गई है। इस स्क्रीन में मतगणना को लाइव दिखाया जा रहा है। प्रत्याशी और उनके समर्थक स्क्रीन से ही चुनाव की मतगणना को देख पा रहे हैं। हालांकि धूत तेज होने के कारण कुछ जगह स्क्रीन पर कुछ भी साफ-साफ नहीं दिखाई पड़ रहा है।

मॉर्निंग कॉलेजों में 45.31 फीसदी मतदान

दिल्ली विश्वविद्यालय में मंगलवार को छात्र संघ (डूसू) चुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ। डीयू के मॉर्निंग कॉलेजों में 45.31 फीसदी छात्र-छात्राओं ने वोट डाले, जबकि पिछले वर्ष इन कॉलेजों में सिर्फ 35 फीसदी मतदान हुआ था।  डूसू चुनाव में हिस्सा लेने वाले 51 कॉलेजों में 41 मॉर्निंग के हैं और 10 सांध्य कॉलेज हैं। सांध्य कॉलेजों में शाम 7:30 बजे तक मतदान चलने की वजह से उनका मतदान प्रतिशत देर रात तक जारी नहीं किया जा सका। चुनाव की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली पुलिस के जवानों ने बैरिकेडिंग की थी। कॉलेजों के बाहर भी पूरी चौकसी के साथ पुलिस बल तैनात रहा। इस दौरान हर आने जाने वाले पर नजर रखी जा रही थी।  सुबह से ही कॉलेजों के बाहर छात्र-छात्राएं मतदान करने के लिए पहुंचने लगे थे। चुनावों के बाद आज सुबह 8:30 बजे मतों की गिनती की जाएगी और दोपहर 12 बजे तक परिणाम घोषित हो जाएगा।

अधिकतर कॉलेजों में 50 फीसदी से कम मतदान  

डीयू के कॉलेजों में इस बार भी मतदान का प्रतिशत कम ही रहा। डीयू में कुल 1.23 लाख छात्र हैं जिन्हें अपने मताधिकार का प्रयोग करना था। हालांकि मतदान के लिए बेहद कम छात्र बाहर निकले। हालांकि, यह बीते वर्ष के मुकाबले अधिक संख्या में छात्र मतदान करने पहुंचे।  डीयू में मंगलवार को मतदान के कारण सुबह की पाली में लगने वाले कॉलेजों में 1 बजे तक और शाम की पाली वाले कॉलेजों में 7:30 बजे तक मतदान हुआ। डीयू के चुनाव अधिकारी का कहना है कि सुबह के 41 कॉलेजों में 45.31 फीसदी छात्र-छात्राओं ने वोट डाले। बता दें कि शाम की पाली वाले कुल 10 कॉलेज हैं, यहां देर शाम तक मतदान होता रहा। गौरतलब है कि डीयू में कुल 81 कॉलेज हैं जिनमें से लगभग 51 कॉलेजों में मतदान किया जाता है।

डूसू के लिए 24 प्रत्याशी मैदान में

डूसू चुनाव में इस बार कुल 24 प्रत्याशी मैदान में हैं। इनमें अध्यक्ष पद के लिए 10 प्रत्याशी, उपाध्यक्ष के लिए 5 प्रत्याशी, सचिव और सहसचिव पद के लिए क्रमश:  5 और 4 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। हालांकि, मुख्य मुकाबला एनएसयूआई और एबीवीपी के बीच बताया जा रहा है। मगर,वामपंथी संगठन आइसा और एसएफआई भी इस बार मजबूती के साथ चुनाव मैदान में डटे हुए दिखाई दिए। डूसू सुनाव के मुख्य चुनाव अधिकारी प्रो. के मुताबिक इस बार डीयू में सवा लाख मतदाता पंजीकृत थे।

कॉलेजों में मतदान प्रतिशत

आर्यभट्ट कॉलेज                 14%
स्वामी श्रद्धानंद कॉलेज          45%
अदिति महाविद्यालय             30%
भगिनी निवेदिता                  35%
किरोडीमल कॉलेज                36%
रामजस कॉलेज                    50%
श्यामाप्रसाद मुखर्जी              28%
रामानुजन कॉलेज                 25%
देशबंधु कॉलेज                     40%
श्यामलाल मॉर्निंग               43.63%
आत्माराम सनातन धर्म        53%
कैंपस ऑफ लॉ सेंटर              57%
राजधानी कॉलेज                  56.2%
श्रीराम कॉलेज                      58%
शहीद भगत सिंह                   30%
पीजीडीएवी कॉलेज                 20%

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here