वायरल खबर- तो क्या 14 फरवरी को भगत सिंह को फांसी हुई थी

1
203
views

ठलुआ पत्रकार ब्यूरो -14 फरवरी को कुछ युवा वेलेंटाइन डे के रूप में मनाते है। ये सही है,या गलत मै इसकी गहराई में नही जाऊँगा,और ना ही मै जाIना चाहता हु। पर 14 फरवरी का कुछ लोग विरोध करते है। और आज ये विरोध *फेसबुक और व्हाट्सऐप पर भगत सिंह के शहीदी दिवस को जोड़कर चलने लगा है* तो उन्हें ये सच जान लेना और मान लेना चाहिए कि 14 फरवरी से भगत सिंह की सजा या फांसी का कोई ताल्लुक नहीं है।
हलाकि इस तारीख को भगत सिंह की जिंदगी में बस *एक ही घटना हुई थी. 14 फरवरी 1931 को मदन मोहन मालवीयजी ने फांसी से ठीक 41 दिन पहले एक मर्सी पिटीशन(आम भाषा में बताऊ तो दया याचिका) ब्रिटिश भारत के वायसराय लॉर्ड इरविन के दफ्तर में डाली थी*, जिसमे भगत सिंह को फाँसी न हो का आग्रह किया था, *जिसको इरविन ने खारिज कर दिया था*।
आप विरोध करे या न करे आपकी सोच और विचार है,परंतु गलत तथ्य प्रस्तुत न करे,और ना ही ऐसी बाते साझा करें,जिससे किसी के पास कोई जानकारी गलत पहुचे।

SHARE

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here